Distilled water kya hota hai | घर पर डिस्टिल्ड वाटर कैसे बनाया जाता है
Distilled water kya hai

Distilled water kya hota hai | घर पर डिस्टिल्ड वाटर कैसे बनाया जाता है

आज का यह पोस्ट डिस्टिल्ड वाटर (आसुत जल) के बारे में है, इसमें आप जानेंगे डिस्टिल्ड पानी क्या होता है, (Distilled water kya hota hai) और यह कैसे तैयार किया जाता है। 

पानी को जीवन कहा जाता है, क्योंकि मानव शरीर 65 प्रतिशत पानी से ही बना है, पानी में वे सभी खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं, जो मानव शरीर के लिए आवश्यक हैं, और बिना तरल या पानी के इंसान सिर्फ 5 से 6 दिनों तक ही जीवित रह सकता है। पानी ना सिर्फ हमारे शरीर को तरोताजा बनाए रखता है, बल्कि यह शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने, और शरीर के तापमान को स्थिर बनाए रखने में भी मदद करता है, साथ ही यह कब्ज और अपच जैसी कई समस्यों से भी हमें निजात दिलाता है। 

वैसे तो पानी के कई प्रकार होते हैं, जैसे (टैप वाटर) जो की घर के नल या पाइप में आता है, (स्प्रिंग वाटर) यह प्राकर्तिक श्रोत से प्राप्त पानी होता है, (मिनिरल वाटर) इस प्रकार के पानी को प्रोसेसिंग कर तैयार किया जाता है, इत्यादि पानी के ऐसे ढेरों प्रकार हैं। तो पानी के इन्ही सब प्रकारों में से एक डिस्टिल्ड पानी भी है, जिसे Distilled water कहा जाता है। तो चलिए जानते हैं, Distilled water kya hota hai, यह आम पानी से कैसे अलग है, और इसे कैसे तैयार किया जाता है। 

Distilled water kya hota hai | What is distilled water in Hindi

डिस्टिल्ड पानी वह पानी होता है, जिसे आसवन (Distillation) विधि के द्वारा तैयार किया जाता है। डिस्टिलेशन विधि एक काफी पुरानी विधि है, जिसमे पानी की असुद्धियों को हटाकर उसे पूर्ण रूप से शुद्ध बना दिया जाता है। डिस्टिलेशन की इस विधि में पानी की असुद्धियों को हटाने के लिए पहले तो पानी को उबाला जाता है, और फिर जब उबलता पानी भाप में बदल जाता है, तो उस भाप को ठंडा कर फिर से पानी में बदल दिया जाता है, और यही पानी डिस्टिल्ड वाटर केहलाता है।

डिस्टिल्ड पानी को पूर्ण रूप से शुद्ध माना जाता है, लेकिन डिस्टिलेशन की इस प्रक्रिया के बाद तैयार डिस्टिल्ड पानी में ना तो कोई स्वाद बाकि रेहता है, यानि यह बिलकुल नीरस और सपाट हो जाता है, और ना ही इसमें वे (Minerals) खनिज पदार्थ मौजूद होते हैं, जिनकी हमारे शरीर को जरुरत होती है, क्योंकि आसवन (Distillation) प्रक्रिया असुद्धियों के साथ-साथ पानी में मौजूद सभी मिनिरल्स को भी समाप्त कर देती  है। 

डिस्टिल्ड पानी में जीवन के लिए आवश्यक लवण ना होने के कारण इसे पिने के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता है, इसका इस्तेमाल आम तोर पर चिकित्सीय कार्यों, प्रयोगशालाओं, कॉस्मेटिक प्रोडक्ट बनाने और गाड़ियों में लगी एसिड बैटरियों में किया जाता है। क्योंकि यह पानी बिलकुल शुद्ध होता है, इसलिए किसी दूसरे केमिकल के साथ रियेक्ट नहीं करता है। 

घर पर distilled water कैसे बनाएं

आप आसानी से अपने घर पर डिस्टिल्ड पानी बना सकते हैं, इसके लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रिया को अपनाना है। 

  • सबसे पहले एक बड़ा स्टेनलेस स्टील का बर्तन लेना है, और उस बर्तन में आधे से थोड़ा अधिक पानी भर लेना है। 

  • अब उस बर्तन के अंदर एक और छोटा बर्तन या कटोरा रख देना है, जो की पानी के ऊपर बना रहे, और बर्तन से बाहर भी ना निकले। ध्यान रहे की पानी के ऊपर रखा बर्तन सतह को ना छुवें बल्कि पानी के ऊपर ही रहे। 

  • इसके बाद गैस ऑन कर दें और गैस को मीडियम आँच पर रखें ताकि पानी धीरे-धीरे गरम हो सके। पानी को उबालना नहीं है, बल्कि गरम होने देना है। 

  • अब एक ढक्कन द्वारा बर्तन को ढक दें, और उस ढक्कन के ऊपर बर्फ रख दें, ताकि पानी गरम होने पर वह भाप के रूप में ढक्कन पर जमा हो सके और फिर ढक्कन के ऊपर रखी बर्फ से वह भाप फिर से पानी में बदल जाए और नीचे रखे कटोरे पर इखट्टा हो सके। यदि ढक्कन ग्लास को हो तो आप जमती भाप को बाहर से भी देख सकते हैं, अन्यथा स्टील के ढक्कन का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 

  • इस पूरी प्रक्रिया के बाद जो भी पानी बर्तन के अंदर रखे कटोरे में जमा होता है, वह डिस्टिल्ड पानी होता है।  

निष्कर्ष

आपने पढ़ा Distilled water kya hota hai और इसे घर पर कैसे तैयार किया जा सकता है। हालाँकि यह बिलकुल शुद्ध पानी होता है, आप चाहें तो इसे पी भी सकते हैं, लेकिन इस पानी में खनिजों की कमी होती है, जिस कारण इसे अधिक समय तक नहीं पिया जा सकता है। उम्मीद है, दी गई जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी होगी, यदि इस पोस्ट से जुड़े आपके कोई सवाल हैं, तो आप कमेंट द्वारा हमसे पूछ सकते हैं।  

यह भी पढ़ें 

एल्कलाइन पानी किसे कहते हैं। 

बुरांश फूल का जूस पीने के फायदे। 

Leave a Reply