E-commerce kise kahate hain | ई-कॉमर्स किसे कहते हैं, थता इसके लाभ।
Ecommerce kya hai

E-commerce kise kahate hain | ई-कॉमर्स किसे कहते हैं, थता इसके लाभ।

यदि आप ई-कॉमर्स के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमारी इस पोस्ट को पूरा पढ़े जिसमे हमने बिलकुल सरल शब्दों में विस्तार से बताया है, की E-commerce kise kahate hain थता ई-कॉमर्स के प्रकार क्या हैं।  

से अर्थ है (इलेक्ट्रॉनिक) और commerce यानि व्यापार। आज के ऑनलाइन युग में इंटरनेट द्वारा लगभग सभी कार्य किए जा रहे हैं, और जिन कार्यों को ऑनलाइन करना संभव नहीं हो पा रहा है, उनके भी ऑनलाइन विकल्प तलाशे जा रहे हैं। 

इसी प्रकार आज व्यापार भी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से यानि इंटरनेट के द्वारा किया जा रहा है, और इंटरनेट द्वारा किया जा रहा कोई भी व्यापार जिसमे उत्पाद या सेवाओं का खरीदना या बेचना शामिल हो वह E-commerce केहलाता है।

ईकॉमर्स या ई-सर्विसेज का फैलाव ना सिर्फ बड़े शहरों तक ही सिमित है, बल्कि अब छोटे शहरों और कस्बों में भी ई-कॉमर्स का लाभ लिया जा रहा है, चाहे फिर अपने किसी प्रोडक्ट को बेचने की बात हो, या फिर नया सामान खरीदने की हर तरह से ई-कॉमर्स लोगों के लिए व्यापार थता शॉपिंग करने का एक आसान और बेहतर प्लेटफार्म साबित हुवा है।

चलिए उदाहरण सहित आसान शब्दों में ई-कॉमर्स को समझते है, और इसके लाभ और हानियों के बारे में भी जानते हैं। 

E-commerce kise kahate hain

ई-कॉमर्स को electronic commerce या Internet commerce भी कहा जाता है। यह एक बिज़नेस मॉडल है, जिसमे उत्पाद या सेवाओं को खरीदने या बेचने के लिए इंटरनेट को एक माध्यम के रूप में उपयोग किया जाता है।

यानि जब इंटरनेट का उपयोग कर उत्पाद या सेवाओं को बेचा या खरीदा जाता है, उसे E-commerce कहते हैं।

दूसरे शब्दों में कहा जाए तो, आप जो भी ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं, जैसे कपड़े, जूते, घर का सामान, फर्नीचर या इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद इत्यादि यानि वह हर एक प्रोडक्ट जिसे आप इंटरनेट के द्वारा खरीदते हैं, या फिर बेचते हैं, वह सब ई-कॉमर्स के अंतर्गत आता है।

जिस प्रकार हमारे आस पड़ोस में दुकाने होतीं हैं, जहाँ हम जाते हैं, और अपनी आवश्यकता और पसंद के अनुसार सामान खरीदते हैं, ठीक उसी प्रकार ऑनलाइन या इंटरनेट जगत में भी Ecommerce platforms होते हैं, जैसे Flipkart, Amazon, Shopify, Mintra इत्यादि, यह भारत में कुछ प्रचलित Ecommerce platforms हैं। 

न सभी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स को लोग वेबसाइट या मोबाइल एप्प के रूप में अपने लैपटॉप, टेबलेट और स्मार्टफोन पर एक्सेस करते हैं, और अपनी पसंद अनुसार यहाँ से प्रोडक्ट्स को ना सिर्फ खरीदते हैं, बल्कि बेचते भी हैं। 

आज ई-कॉमर्स पर लोगों का इतना अधिक भरोसा है, की लगभग हर वह उत्पाद और सेवाएं ई-कॉमर्स पर खरीदी व बेचीं जा सकती हैं, जिनके बारे कोई कल्पना कर सकता है। तो चलिए अब ई-कॉमर्स के प्रकार भी जान लेते हैं। 

ई-कॉमर्स के प्रकार क्या हैं | Types of E-commerce in Hindi

ई-कॉमर्स ने क्रेता और विक्रेता दोनों के लिए आज खरीदारी करने और उत्पाद बेचने के नए रास्ते खोल दिए हैं। जहाँ पेहले हर छोटी-बड़ी चीज को खरीदने के लिए बाजार का रुख करना पड़ता था, वही अब घर बैठे मोबाइल पर सिर्फ एक क्लिक द्वारा सब किया जा सकता है। 

E-commerce के निम्नलिखित चार प्रकार हैं। 

  • B2C (Business to consumer) B2C e-commerce एक सामान्य बिज़नेस मॉडल है, जहाँ पर बिज़नेस द्वारा सीधे तोर पर डिजिटल माध्यम से अपने ग्राहक को उत्पाद या सेवाएं बेचीं जाती हैं। उदाहरण के तोर पर जैसे आप किसी ऑनलाइन स्टोर से अपने लिए कोई कपड़ा, घड़ी या जुते इत्यादि खरीदते हैं, यानि यहाँ पर व्यापारी सीधे तोर पर ग्राहक को उत्पाद या सेवाएं बेचता है। 

  • B2B (Business to business) B2B e-commerce यानि जब डिजिटल माध्यम द्वारा एक व्यापारी से दूसरे व्यापारियों को उत्पाद या सेवाएं बेची जाती हैं, तो वह वह B2B कहलाता है। उदाहरण के तोर पर जैसे Wholesaler द्वारा retailers को सामान बेचा जाता है।  

  • C2C (Consumer to consumer) C2C e-commerce में उत्पाद और सेवाएं एक ग्राहक से दूसरे ग्राहक को बेची जाती हैं। उदाहरण के तोर पर जैसे कोई ग्राहक अपना पुराना सोफा, साइकिल या पंखा इत्यादि ऑनलाइन माध्यम से दूसरे ग्राहक को बेचता है। 

  • C2B (Consumer to business) C2B e-commerce B2C बिज़नेस मॉडल के ठीक उलट होता है। यहाँ पर उपभोक्ता प्रॉफिट या किसी प्रकार के फायदे के लिए  प्रोडक्ट और सर्विसेज को ऑनलाइन माध्यम से बेचता है, और बिज़नेस उन प्रोडक्ट और सर्विसेज को खरीदता है। उदाहरण के तोर पर जैसे उपभोक्ता बिज़नेस के पक्ष में कुछ अच्छा लिखकर या फोटोग्राफी द्वारा उनका विज्ञापन करता है, या उन्हें मूल्य प्रदान करता है, और बदले में वह बिज़नेस से कुछ चार्ज लेता है। 

ई-कॉमर्स के लाभ क्या हैं | Advantage of E-commerce in Hindi

ईकॉमर्स के प्रचलित होने का मुख्य कारण इस से होने वाले लाभ हैं। ई-कॉमर्स के इन लाभों को हम दो श्रेणियों में बाटेंगे पहले में हम इस से उपभोक्ता को होने वाले लाभ जानेंगे और दूसरे में व्यापार को। 

ई-कॉमर्स से उपभोक्ता को होने वाले लाभ। 

  • खरीदारी के लिए कहीं जाना नहीं पढता :- ई-कॉमर्स प्लेटफार्म होने से ग्राहक को खरीदारी के लिए कहीं बाहर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, बल्कि वह घर बैठे अपने स्मार्टफोन, कंप्यूटर से हर प्रकार की खरीदारी कर सकता है।  

  • एक स्थान पर मनपसंद उत्पाद या सर्विस के चयन का मौका मिल जाता है :- ई-कॉमर्स प्लेटफार्म पर ग्रहकों को अपने मनपसंद के उत्पाद व सर्विसेज खरीदने के ढेरों विकल्प मिल जाते हैं। यानि एक ही मंच पर हर प्रकार का उत्पाद व सेवाएं उपलब्ध हो जाती हैं, थता इन उत्पादों का दूसरे विभिन्न मंचो में उपलब्ध उत्पादों के साथ तुलना भी की जा सकती है। 

  • समय और पैसों की बचत हो जाती है :इसमें समय और पैसे की काफी बचत हो जाती है, यानि खरीदारी करने के लिए आपको बाजार जाने की भी आवश्यकता नहीं पड़ती है, जिससे ना सिर्फ आपका किराया बचता है, बल्कि समय की भी काफी बचत हो जाती है। 

  • सुविधा होती है :- र प्रकार के ग्राहक की खरीदारी के लिए एक ही प्लेटफार्म होता है, जिससे ई-कॉमर्स प्लेटफार्म पर ग्राहकों की विविध पसंद को देखते हुवे विभिन्न प्रकार और स्तर के उत्पाद व सेवाएं उपलब्ध होती हैं, यानि ग्राहक को अपनी पसंद का सामान व सेवाएं चुनने में काफी सुविधा मिल जाती है। 

    ई-कॉमर्स से खरीदारी करने के लिए आपको कहीं जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, बल्कि आप चाहे कहीं यात्रा कर रहे हों, या बाहर मौसम ख़राब हो आपको चिंता नहीं करनी पड़ती है,
    क्योंकि खरीदारी आपके स्मार्टफोन और कंप्यूटर द्वारा की जा सकती है। 

ई-कॉमर्स से व्यापार को होने वाले लाभ। 

  • कम लागत में व्यापार शुरू किया जा सकता है :- ई-कॉमर्स व्यापार को शुरू करने के लिए काफी कम पूँजी की आवश्यकता होती है। इसमें आपको कोई दुकान या शोरूम खोलने की जरुरत नहीं पड़ती है, और शुरुवात में ना किसी स्टाफ को रखने की आवश्यकता होती है, बल्कि घर बैठे बहुत कम पूँजी के साथ कोई भी अपना ऑनलाइन स्टोर बना सकता है, और व्यापार शुरू कर सकता है। 

  • व्यापार करने की कोई तैय समय सिमा नहीं होती है :- ऑनलाइन व्यापार करने का एक बड़ा फायदा यह भी है, की इसमें समय की कोई पावंदी नहीं होती है, यानि आपका ऑनलाइन स्टोर हर समय ग्राहकों के लिए खुला रहता है, चाहे फिर ग्राहक सुबह के 5 बजे खरीदारी करे या रात के 2 बजे, वह कभी भी आपके ऑनलाइन स्टोर से अपनी जरुरत का सामान खरीद सकता है। 

  • सामान और सेवाएं बेचने का असीमित दायरा होता है :- ई-कॉमर्स का एक बहुत बड़ा फायदा यह भी है, की इसमें उत्पाद और सेवाएं बेचने का कोई एक सिमित दायरा नहीं होता है, की सिर्फ व्यापार एक क्षेत्र तक ही सिमित हो, बल्कि दुनियाभर में अपने  उत्पाद और सेवाओं को बेचा जा सकता है। 

  • ऑनलाइन व्यापार का विस्तार करना सस्ता और आसान होता है :ऑनलाइन स्टोर का विस्तार करना एक physical store से काफी सस्ता और आसान होता है। जहाँ physical स्टोर के लिए नया शोरूम या दुकान देखनी पड़ती है, उसे स्टोर के रूप में तैयार करना पड़ता है, उसका रख -रखाव करना पड़ता है, थता उसके साथ दूसरे भी कई खर्चे जुड़ जाते हैं, वहीँ एक ऑनलाइन स्टोर में इन सब झंझटों से बचा जा सकता है।

    ऑनलाइन स्टोर के विस्तार के लिए सिर्फ नई इन्वेंटरी, डिजिटल विज्ञापन थता स्टोरेज इत्यादि की आवश्यकता होती है, जो के physical स्टोर की तुलना में काफी सस्ता और आसान पड़ जाता है। 

अंतिम शब्द E-commerce kise kahate hain

दोस्तों आपने जाना E-commerce kise kahate hain, ई-कॉमर्स के प्रकार क्या हैं, थता इसके लाभों को भी आपने जाना।

जिस प्रकार पिछले कुछ वर्षों की तुलना में आज ऑनलाइन खरीदारी बड़ी है, उम्मीद यही है, की जैसे-जैसे भारत में इंटरनेट का और अधिक विस्तार होगा, गावों और छोटे कस्बों में भी ऑनलाइन खरीदारी को बढ़ावा मिलेगा। वहाँ भी ई-कॉमर्स का उपयोग बढ़ेगा और घर-घर तक उत्पाद डिलीवरी की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।  

यदि इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई सवाल है, या हमारे लिए कोई सुझाव है, तो आप कमेंट द्वारा हमें बता सकते हैं। 

BPL कार्ड के बारे में जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें। 

Leave a Reply