Internship kya hota hai | इंटर्नशिप क्यों किया जाता है | इंटर्नशिप के 7 benefits
internship kya hota hai

Internship kya hota hai | इंटर्नशिप क्यों किया जाता है | इंटर्नशिप के 7 benefits

यदि आप एक Student हैं, तो आपने Internship के बारे में जरूर सुना होगा, क्या आप जानते हैं, Internship kya hota hai, internship kaise kare और इंटर्नशिप करने के क्या benefits हैं, यदि नहीं तो चलिए आपको इंटर्नशिप के बारे में बताते हैं।

आज के समय में सिर्फ कॉलेज की डिग्री ले लेना या कोई प्रोफेशनल कोर्स कर लेना ही एक अच्छी नौकरी लगने की या एक सफल करियर के शुरुवात की गारंटी नहीं है, बल्कि इसके साथ यदि आपके पास कुछ Industry experience है, उस क्षेत्र में कार्य का कुछ अनुभव है, तो आपको दूसरों की अपेक्षा तरजीह दी जाती है, इसिलिये Internship को जरुरी समझा जाता है, और प्राथमिकता दी जाती है। तो चलिए जानते हैं, Internship kya hota hai

Internship kya hota hai | Internship meaning in Hindi

स्टूडेंट्स द्वारा किसी विशिष्ट कार्य क्षेत्र में एक तैय समय के लिए कार्य का अनुभव प्राप्त करने की प्रक्रिया को Internship कहा जाता है।

यह किसी कंपनी या संस्था द्वारा स्टूडेंट्स को उनके अध्यन के क्षेत्र में दिया जाने वाला Work experience होता है, जहाँ पर एक तैय समय जैसे 2 या 6 महीने या फिर 1 साल के लिए स्टूडेंट्स उस कंपनी या संस्था से जुड़ते हैं, वहाँ कार्य करते हैं, वहाँ के कार्य को समझते हैं, कार्य करने का तरीका सीखते हैं, यानि जो कुछ भी स्टूडेंट्स ने सैद्धांतिक (theoretical) रूप से यानि किताबों में पढ़ा होता है, इंटर्नशिप में उसे वे प्रैक्टिकल रूप से समझते हैं, और करके देखते हैं। 

इंटर्नशिप ना सिर्फ स्टूडेंट्स के भीतर उनके कार्य क्षेत्र से जुड़े ज्ञान और समझ को बढ़ाने का काम करता है, बल्कि उनके भीतर Communication तथा presentation skills भी डेवेलोप हो पाती हैं, और उन्हें एक असल Work environment में काम करने का मौका मिलता है। 

इसलिए आज Internship को प्रोफेशनल स्टडीज का एक अहम् हिस्सा माना जाता है, और वैसे भी सिर्फ किताबी ज्ञान को लेकर किसी काम को नहीं समझा जा सकता है, जब तक की हम खुद उस Work environment में काम करके ना देखें।

यदि इंटर्नशिप के प्रकार की बात करें तो यह मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है, Paid Internship जहाँ पर कंपनी स्टूडेंट्स को उनके काम के बदले कुछ पैसा देती है, और Unpaid internship जिसमें इंटर्न्स को कोई पैसा नहीं दिया जाता है, लेकिन देखा जाए तो, अधिक्तर कंपनियों में इंटर्न्स को खर्चे के रूप में कुछ पैसा जरूर दिया जाता है। 

जब एक बार इंटर्नशिप पूरी हो जाती है, तो कंपनी द्वारा सभी स्टूडेंट्स को सर्टिफिकेट प्रदान किया जाता है, जो की एक प्रकार का Work experience letter होता है। आज इंटर्नशिप हर सेक्टर में की जाती है, जैसे IT, Sales, Marketing, Engineering, Accounts, Hospitality, Human resource, Graphic design इत्यादि, यानि ऐसे ढेरों कार्य क्षेत्र हैं, जहाँ पर इंटर्नशिप की जाती है। तो उम्मीद है, अब आप जान गए होंगे की इंटर्नशिप क्या होती है, चलिए अब इंटर्नशिप करने के क्या फायदे हैं, इसके बारे में भी जान लेते हैं। 

इंटर्नशिप करने के लाभ | Advantage of Internship in Hindi

आपने भले ही किसी भी क्षेत्र से जुड़ी पढाई की हो, जब तक आपको उस क्षेत्र में काम करने का कुछ अनुभव प्राप्त नहीं है, तब तक आपके लिए एक अच्छी नौकरी पाना, या करियर की सफलतम शुरुवात कर पाना काफी चुनौतीपूर्ण साबित होता है, और Internship आप की इसी चुनौती का समाधान है, क्योंकि यह स्टूडेंट्स के लिए उनके कार्य क्षेत्र में अनुभव प्राप्त करने का एक बेहतरीन तरीका है। 

7 Advantage of Internship in Hindi 

  • कार्य का अनुभव प्राप्त होता है :- किताबी ज्ञान से उलट इंटर्नशिप में प्रैक्टिकल रूप से काम करने का मौका मिलता है, जो की एक Real work experience होता है। इससे स्टूडेंट्स के भीतर नई Skills डेवेलोप हो पाती हैं, और वे अपने किताबी ज्ञान को धरातल पर उतार पाते हैं, साथ ही उनको काम के दौरान उतपन्न होने वाली समस्याओं और उनके समाधान के बारे में भी पता चलता है, और यह सब उनके एक अच्छे करियर या अच्छी नौकरी पाने की संभावना को बड़ा देता है। 

  • सॉफ्ट स्किल्स डेवेलोप हो पाती हैं :- कॉलेज लाइफ और प्रोफेशनल लाइफ के बीच बहुत बड़ा फर्क होता है, और इंटर्नशिप स्टूडेंट्स के लिए इस फर्क को समझने का सबसे बढ़िया माध्यम है। इंटर्नशिप द्वारा काम के साथ-साथ स्टूडेंट्स के भीतर प्रोफेशनल soft skills डेवलप हो पाती हैं, वे कम्युनिकेशन, टीम में हिस्सा बनकर काम करना, टाइम मैनेजमेंट और ज़िम्मेदारी लेना इत्यादि सीख जाते हैं, और यह ऐसी स्किल्स हैं, जो ना सिर्फ प्रोफेसनल जीवन बल्कि सामान्य जीवन में भी उनके काम आते हैं। 
     
  • करियर को लेकर स्पष्टता आ जाती हैं :- इंटर्नशिप स्टूडेंट्स को उनके काम को पेहचानने का अवसर प्रदान करता है, दरअसल कई बार स्टूडेंट्स अपने करियर को या अपने काम को लेकर स्पष्ट नहीं रहते हैं, उनके मन में दुविधा रहती है, कई बार वे गलत फील्ड का चुनाव भी कर लेते हैं, जो उनके अनुकूल नहीं होता है, और जब तक उन्हें हकीकत पता चलती है, तब तक काफी समय बीत जाता है। तो Internship स्टूडेंट्स को उनके काम से अवगत कराता है, स्टूडेंट्स को उनके कार्यक्षेत्र के बारे में जानकारी हो पाती है, और उनके भीतर करियर को लेकर स्पष्टता आती है। 

  • आत्मविश्वास बढ़ जाता है :- इंटर्नशिप स्टूडेंट्स के लिए Confidence building का काम भी करता है, क्योंकि इंटर्नशिप के द्वारा स्टूडेंट्स को उनकी strength और weakness का पता चलता है, अपने Roll और Responsibility को वो समझने लगते हैं, उनकी कम्युनिकेशन स्किल्स डेवलप हो जाती हैं, उन्हें पता चल जाता है, की करियर में सफलता प्राप्त करने के लिए आगे क्या करना है, और आत्मविश्वास बढ़ने का एक बड़ा कारण कार्य क्षेत्र में hand-on experience भी होता है, जो Job ढूढ़ने और इंटरव्यू के समय उन्हें दूसरों से अलग करता है। 

  • संपर्क बढ़ जाते हैं :- इंटर्नशिप के दौरान स्टूडेंट्स एक दूसरे से मिलते हैं, नए टीम मेंबर्स से मिलने का मौका मिलता है, नए लोग आपको जानने लगते हैं, आपका प्रोफेशनल नेटवर्क तथा संपर्क बढ़ जाता है, और प्रोफेशनल नेटवर्क किसी भी कार्य क्षेत्र में तरक्की का सबसे बड़ा कारण होता है। इंटर्नशिप के दौरान बने यही कनेक्शन स्टूडेंट्स के लिए उनकी प्रोफेशनल लाइफ में बहुत काम आते हैं।  

  • नौकरी मिलने में आसानी हो जाती है :- इंटर्नशिप के दौरान संपर्क बढ़ने का सबसे बड़ा उदाहरण यही है, की जब स्टूडेंट्स इंटर्नशिप में मेहनत और लगन के साथ काम करते हैं, तो उनके काम से Impress होकर कई बार इंटर्नशिप दे रही कंपनी खुद ही स्टूडेंट्स को Job offer कर देती है, और उन्हें कंपनी में ही उचित पद पर रख लिया जाता है। 

  • CV बेहतर हो जाता है :- यदि जॉब की बात करें तो एक No work experience वाले स्टूडेंट की तुलना में work experience वाले स्टूडेंट को पहले मौका दिया जाता है। इंटर्नशिप किए हुवे स्टूडेंट CV में इंटर्नशिप के दौरान उनके Rolls & Responsibilities का उल्लेख कर सकते हैं, वे बता सकते हैं, की वे मेहनत करने, सिखने और जिम्मेदारियां लेने के लिए तैयार हैं। 

internship kaise kare

कई स्टूडेंट्स का यह भी सवाल होता है, की हम इंटर्नशिप कैसे करें, इंटर्नशिप के लिए कहाँ अप्लाई करें, तो यहाँ पर इंटर्नशिप प्राप्त करने के तीन मुख्य तरीके बताए गए हैं।  

  1. कॉलेज से मिलेगी इंटर्नशिप :- यदि आप एक बढे कॉलेज या किसी प्रतिष्ठित संस्थान में पढ़ते हैं, तो आपको इंटर्नशिप के लिए चिंता करने की अधिक आवश्यकता नहीं है, क्योंकि सभी बढे कॉलेजों या प्रितिष्ठित संस्थानों का विभिन्न कंपनियों के साथ गठजोड़ होता है, यानि कंपनियां खुद ही कॉलेज में योग्य Interns को Hire करने आती हैं, बस आपको अपनी तैयारी कर के रखनी होती है। हायरिंग के दौरान आपका एक छोटा सा इंटरव्यू होता है, और कई बार आपके विषय से संबंधित कुछ सवाल पूछ लिए जाते हैं, बस आपको कॉन्फिडेंस के साथ खुद को प्रस्तुत करना होता है।
     
  2. कंपनी में खुद अप्लाई करें :- आपके विषय या फील्ड से जुड़ी जितनी भी कंपनियां आपके आस-पास हैं, उनकी लिस्ट तैयार करें, और अपना एक अच्छा सा CV तैयार कर उन कंपनियों में आप इंटर्नशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं। यदि आप ऐसा करते हैं, तो निश्चित ही आपको किसी ना किसी कंपनी में इंटर्नशिप के लिए रख लिया जाएगा, क्योंकि कंपनियां खुद योग्य इंटर्न्स की तलाश करते हैं, जिन्हें बाद में वे हायर कर सकें। 

  3. ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स में अप्लाई करें :- ऑनलाइन के दौर में आज ऐसे ढेरों मंच हैं, जहाँ आपके पास मौकों की कोई कमी नहीं है, बस आपमें ऐसी योग्यता होनी चाहिए जो उन मौकों का पूरा फायदा उठा सके। यदि आप इंटर्नशिप ढूंढने के लिए कहीं नहीं जा सकते हैं, तो भी आप घर बैठे Online माध्यम से इंटर्नशिप के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

    ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स जैसे LinkedIn, AICTE, Internin, Internshala, इत्यादि ढेरों ऐसे मंच हैं, जहाँ पर आप आसानी से Paid या Unpaid इंटर्नशिप ढूढ़ सकते हैं। LinkedIn पर अधिक्तर बड़ी कंपनियों के professionals जुड़े होते हैं, आप सीधे तोर पर भी उनसे संपर्क कर सकते हैं, या AICTE, Internin या Internshala जैसे मंचों पर प्रोफाइल तैयार करके भी इंटर्नशिप के लिए अप्लाई कर सकते हैं। 

निवेदन

दोस्तों अब आपको पता चल गया होगा Internship kya hota hai, इंटर्नशिप करने के क्या benefits हैं, और internship kaise kare, यदि इस पोस्ट से संबंधित आपके कोई सवाल हैं, या हमारे लिए कोई सुझाव है, तो नीचे कमेंट करके आप हमें बता सकते हैं। हमें उम्मीद है, यह जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी होगी, यदि जानकारी अच्छी लगी है, तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, धन्यवाद। 

यह भी पढ़ें :-

स्कालरशिप क्या होता है 

स्टेनोग्राफर क्या होता है 

डाटा एंट्री जॉब क्या होती है 

Leave a Reply