What is NSE and BSE in hindi | NSE और BSE क्या हैं
NSE BSE IN HINDI

What is NSE and BSE in hindi | NSE और BSE क्या हैं

यदि आपने NSE और BSE के बारे में सुना है, लेकिन आप नहीं जानते हैं, की NSE और BSE क्या होते हैं, What is NSE and BSE in Hindi, तो इस पोस्ट में आपको NSE और BSE की विस्तृत जानकारी दी गई है।

टीवी न्यूज़ और अख़बार के वित्तीय खंड में अक्सर स्टॉक मार्किट, स्टॉक एक्सचेंज, NSE, BSE, निफ़्टी और सेंसेक्स जैसे शब्द नजर आते हैं, ऐसे में यदि आपको इनके बारे में जरा भी जानकारी नहीं है, तो आपके मन में कहीं ना कहीं यह सवाल जरूर उठता होगा, की आख़िर ये होते क्या हैं, तो इन्ही सब सवालों के जवाब आपको इस पोस्ट में दिए गए हैं। 

What is NSE and BSE in hindi | NSE और BSE क्या हैं

NSE और BSE के बारे में समझने से पहले आपका स्टॉक एक्सचेंज के बारे में जानना जरुरी है। 

स्टॉक एक्सचेंज क्या होता है?

स्टॉक एक्सचेंज दो शब्दों का जोड़ है, स्टॉक और एक्सचेंज। स्टॉक या शेयर किसी कंपनी में हिस्सेदारी को दर्शाते हैं, यानि स्टॉक किसी कंपनी में आपके स्वामित्व के प्रतिशत को दर्शाते हैं, कंपनी के जितने अधिक स्टॉक्स या शेयर्स आपके पास होंगे उतनी अधिक उस कंपनी में आपकी हिस्सेदारी होगी, और एक्सचेंज उन स्टॉक्स और शेयर्स के लेन-देन का स्थान है।

स्टॉक एक्सचेंज buyers और sellers को वह मंच और इंफ्रास्ट्रक्चर प्रदान करता है, जहाँ वे आपस में ट्रेड कर सकें। स्टॉक एक्सचेंज में विभिन्न कंपनियां फंड जुटाने के उद्देश्य से लिस्ट होती हैं, और इसके लिए वे पब्लिक के बीच अपने स्टॉक्स या शेयर्स उतारती हैं, और पब्लिक उन शेयर्स को खरीदकर उस कंपनी में अपनी कुछ प्रतिशत की हिस्सेदारी ले लेती है।

तो कंपनी और निवेशकों के बीच स्टॉक्स या शेयर्स का यह पूरा लेन-देन स्टॉक एक्सचेंज के द्वारा ही संभव हो पाता है, और NSE तथा BSE दोनों ही देश के दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज हैं। 

What is NSE and BSE in hindi

NSE क्या है, What is NSE in Hindi 

NSE का full form है, National stock exchange यह पूंजीकरण के मामले में भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज हैं, जो की मुंबई महाराष्ट्र में स्थित है। (NSE) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड की स्थापना 1992 में की गई थी, और फिर 1993 में इसे SEBI द्वारा स्टॉक एक्सचेंज के रूप में मान्यता दी गई।

NSE की स्थापना करने का मुख्य उद्देश्य भारतीय बाजार प्रणाली में पारदर्शिता लाना था, और आज देखा जाए तो इसने अपना उद्देश्य काफी अच्छी तरह से पूरा भी किया है। यह भारत का पेहला स्टॉक एक्सचेंज था, जिसने इलेक्ट्रॉनिक और स्क्रीन आधारित ट्रेडिंग को लागु किया था, यानि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड देश का पहला स्टॉक एक्सचेंज था जिसने पेपर आधारित सिस्टम को समाप्त कर देश में पूरी तरह से ऑटोमेटेड ट्रेडिंग की शुरुवात की थी। 

यदि NSE में लिस्टेड कंपनियों की बात करें तो इसमें 2000 से भी अधिक कंपनियाँ लिस्टेड हैं, और इसकी मार्किट कैपिटलाइजेशन 3.4 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर से भी अधिक है। 

साल 1996 में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज द्वारा Nifty 50 को अपने बेंचमार्क इंडेक्स के रूप में लाया गया था, Nifty50 भारत में उपयोग होने वाले दो मुख्य सूचकांक में से एक है। निफ़्टी फिफ्टी के अंतर्गत (NSE) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड 50 विभिन्न सेक्टर्स की सबसे अधिक कारोबार करने वाली बड़ी कंपनिया शामिल रहती हैं, जिसमे इन 50 बड़ी ब्लूचिप कंपनियों के शेयरों का मूल्यांकन कर बाजार की स्तिथि का पता लगाया जाता है, और साथ ही इस सूचकांक द्वारा किसी विशेष सेक्टर पर भी नजर रखी जा सकती है।  

(NSE) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का उद्देश्य क्या है

(NSE) नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निम्नलिखित उद्देश्य हैं। 

  1. हर एक निवेशक को शेयर बाजार में निवेश करने की सुविधा प्रदान करना।  
  2. ऐसी राष्ट्रव्यापी ट्रेडिंग सुविधा स्थापित करना जिसमे सभी प्रकार की प्रतिभूतियों को ट्रेड किया जा सके। 
  3. सभी निवेशक समान रूप से प्रतिभूतियों को खरीद व बेच सकें। 
  4. इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम का उपयोग कर शेयर बाजार को निष्पक्ष और पारदर्शी बनाना।   
  5. ट्रेडिंग सेटलमेंट् में तेजी लाना। 
  6. बाजार को अंतराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप स्थापित करना।
     

BSE क्या है, What is BSE in Hindi 

BSE का full form है, Bombay stock exchange, जो की NSE के बाद मुंबई में स्थिति देश का एक दूसरा बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। यह भारत का ही नहीं एशिया का सबसे पुराना और पेहला स्टॉक एक्सचेंज है, जिसे 1875 में नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन के नाम से स्थापित किया गया था।

147 साल पुराने इस स्टॉक एक्सचेंज ने भारत के पूंजी बाजार तथा भारतीय कॉर्पोरेट क्षेत्र को विकसित करने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। आज BSE की मार्किट कैपिटलाइजेशन 3 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर से भी अधिक की है, और इस में लगभग 5500 से भी अधिक कंपनियाँ लिस्टेड हैं। 

यदि BSE की शुरुवात की बात की जाए तो इसकी शुरुवात 1875 में एक राजिस्थानी बिजनेसमैन प्रेमचंद रायचंद द्वारा की गई थी। शुरुवाती दिनों में शेयरों का पूरा लेन-देन मैनुअल रूप से होता था, यानि दस्तावेजों के रूप में शेयरों को ख़रीदा और बेचा जाता था, जिसकी प्रक्रिया पूरी होने में 5 से 6 महीनों तक का लंबा समय लग जाता था।

लेकिन फिर 1992 में NSE की स्थापना के बाद शेयरों को खरीदने-बेचने यानि ट्रेडिंग की पूरी प्रक्रिया कंप्यूटर द्वारा होने लगी, BSE ने  इस इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम को अपनाने में थोड़ा समय लिया लेकिन फिर 1995 में BSE (Bombay stock exchange) का काम काज भी computerize कर दिया गया। 

साल 1986 में (BSE) बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज द्वारा Sensex को अपने बेंचमार्क इंडेक्स यानि सूचकांक के रूप में लाया गया। सेंसेक्स एक सबसे पुराना स्टॉक इंडेक्स है, इसके अंतर्गत BSE पर लिस्टेड अलग-अलग सेक्टर्स की 30 बड़ी कंपनियाँ शामिल रहती हैं, वे 30 कंपनियाँ जिनका मार्किट कैप काफी ज्यादा होती है, और इसलिए सेंसेक्स को BSE30 के नाम से भी जाना जाता है। सेंसेक्स के उतार-चढ़ाव से BSE पर लिस्टेड 30 बड़ी कंपनियों तथा शेयर बाजार दोनों की स्तिथि और प्रदर्शन का पता लगाया जा सकता है। 

NSE और BSE के बीच क्या फर्क है | Difference between NSE and BSE in Hindi

NSE  BSE
NSE की स्थापना 1992 में हुई थी।  BSE की स्थापना 1875 में हुई थी।  
इसका सूचकांक (Index) निफ़्टी 50 है  इसका सूचकांक (Index) सेंसेक्स 30 है। 
दुनिया के बड़े स्टॉक एक्सचेंज में यह 11वें स्थान पर है।  BSE 10वां स्थान रखता है। 
इसमें लगभग 2000 कंपनियाँ लिस्टेड हैं।  इसमें 5500 से भी अधिक कंपनियाँ लिस्टेड हैं। 
NSE को 1993 में स्टॉक एक्सचेंज के रूप में मान्यता मिली थी।  

BSE को 1957 में स्टॉक एक्सचेंज के रूप में मान्यता मिल गई थी 

इसकी उपस्थिति 2000 से भी अधिक शहरों में है। इसकी उपस्थिति 417 शहरों तक है। 
इसका मार्किट कैप  इसका मार्किट कैप 
इसका हेडक्वार्टर मुंबई में है। इसका हेडक्वार्टर भी मुंबई में है। 
इसकी वेबसाइट www.nseindia.com है।  इसकी वेबसाइट www.bseindia.com है। 

अंतिम शब्द

NSE और BSE दोनों ही भारत के मुख्य स्टॉक एक्सचेंज हैं, जहाँ प्रतिदिन लाखों निवेशक इनमे ट्रेडिंग करते हैं। आपने जाना NSE और BSE क्या हैं, NSE and BSE in hindi और इनके बीच क्या फर्क है। हमें उम्मीद है, यह जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी होगी, यदि इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो आप कमेंट करके हमें बता सकते हैं। 

यह भी पढ़ें 

सेबी क्या है 

RBI क्या है 

IPO क्या है 

Leave a Reply